About Sayaji FM

Sayaji FM is own Online Radio Station for The Maharaja Sayajirao University of Baroda, Vadodara, Gujarat, started by RJ Yogesh. Alike our radio station most of our RJs are new here. But all are so dedicated to Sayaji FM that they try to give out their best and work out the best for us. We all know that, usually RJs come at studio for 2-3 hours for their show and then they go out. But at the Sayaji FM being a RJ is not so easy job, coz they are not only Radio Jockey. They are all in all of their show, they do everything for their show, starting from script writing, to selecting tracks, making a playlist, to promoting their show and keeping a touch with their own listeners. They are so hard working individuals that just a word of appreciation is not enough for them. They think good for Sayaji FM & whatever is good for our station as well as whatever entertains our listeners. Our all RJs are friendly and responsive to their listener. They work at friendly environment and also try to create friendly environment on AIR. The one outstanding thing about our Radio Jockey is that they are idea maker too, they give new ideas of shows and they make special show for special day like mother’s day, father’s day, friendship day, valentine’s day, etc.

Come let us take you to the wonderful world of Sayaji FM Team of RJs & let you meet the creators and presenters of show on http://bit.ly/SayajiFM

Saturday, August 12, 2017

'12 अगस्त को रात नहीं होगी', जानें इस दावे का सच क्या है

सोशल मीडिया पर अखबारों का एक टुकड़ा वायरल हो रहा. इन अखबारों में बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा है कि "96 साल में पहली बार 12 अगस्त को नहीं होगी रात". वहीं एक अन्य अखबार जो वाराणसी, गोरखपुर,इलाहाबाद और कानपुर जैसे शहरों में प्रकाशित होता है उसमें भी यही हेडिंग है.


‘12 अगस्त को रात नहीं होगी’ इस दावे ने सोशल मीडिया पर हडकंप मचा रखा है. दावा है कि 12 अगस्त को 24 घंटे उजाला रहेगा यानि उस दिन रात में भी दिन जैसा उजाला रहेगा और अंधेरा ही नहीं होगा. साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि 96 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार होने वाला है.

सोशल मीडिया पर किए जा रहे इस दावे की सच्चाई क्या है?
सोशल मीडिया पर अखबारों का एक टुकड़ा वायरल हो रहा. इन अखबारों में बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा है कि "96 साल में पहली बार 12 अगस्त को नहीं होगी रात." वहीं एक अन्य अखबार जो वाराणसी, गोरखपुर, इलाहाबाद और कानपुर जैसे शहरों में प्रकाशित होता है उसमें भी यही हेडिंग है.
किए जा रहे हैं कई दावे
इतना ही नहीं एक दावे में यह भी कहा जा रहा है कि "दुनिया की सबसे बड़े वैज्ञानिक संस्थान नासा ने कहा है कि ऐसा चमत्कार दुनिया में पहली बार होगा." एक दावे में लोगों को डराया भी जा रहा है कि "इसे नहीं देखेने वाले लोगों को बहुत बड़ा नुकसान हो सकता है."
अंतरिक्ष वैज्ञानिक सी बी देवगन ने बताई अहम बातें
एबीपी न्यूज़ ने इस दावे की पड़ताल की. पड़ताल के दौरान अंतरिक्ष वैज्ञानिक सी बी देवगन ने बताया, "12 तारीख को मेट्योर शॉवर होना है जिसे हम उल्कापिंड कहते हैं, जिसे टूटता तारा भी कहते हैं. जिसे देखकर हम मुराद मांगते हैं. नासा टीवी ने ये जानकारी दी है कि ये 12 तारीख को इतने से इतने बजे के बीच मेट्योर शॉवर होगा."
वैज्ञानिक ने बताया, "12 अगस्त खास जरूर है, क्योंकि उस दिन मेट्योर शॉवर यानि उल्का वर्षा होने वाली है लेकिन उल्कावर्षा या मेट्योर शॉवर क्या है, ये समझने के लिए आपको टूटते तारे के बारे में जानना जरूरी है."
क्या होता है उल्कावर्षा या मेट्योर शॉवर
सी बी देवगन ने बताया, "पहले जब हमें नहीं मालूम था कि तारा टूटना क्या होता है तो ये मानते थे कि तारा टूट गया है, लेकिन असल में ये अंतरिक्ष में छोटे-छोटे रेत के दाने जैसे होते हैं. जब वो हमारे वातावरण में घुसते हैं तो फ्रिकशन की वजह से गर्म हो जाते हैं और हमें जलते हुए नजर आते हैं. उन्हें हम टूटता तारा कहते हैं वो सिर्फ एक जलता हुआ कण होता है, लेकिन जब एक साथ एक दिशा से कई सारे जलते हुए कण जमीन पर गिरते हैं तो उसे उल्कावर्षा या मेट्योर शॉवर कहते हैं."
मेट्योर शॉवर का रात या दिन होने से क्या संबंध है? इस संबंध में वैज्ञानिक ने हमें बताया, "मेट्योर शॉवर में करीब 1 घंटे के अंदर 70 से 80 पार्टिकल गिरते हुए देखे जा सकते हैं, जिससे काफी उजाला होगा. जिस समय मेट्योर शॉवर हो रहा होगा उस वक्त भारत में रात के तकरीबन 10.30 बज रहे होंगे. मेट्योर शॉवर भारत से इतनी दूरी पर होगा कि हम इसे नहीं देख पाएंगे. पश्चिमी देशों में मेट्योर शॉवर बिल्कुल साफ नजर आएगा. मेट्योर शॉवर किसी देश में दिखना या ना दिखना पृथ्वी की स्थिति पर निर्भर करता है."
उल्कावर्षा भारत में नहीं नजर आने के पीछे और क्या वजहें हो सकती हैं
"मीटिओर शॉवर तब अच्छे से नजर आता है जब आसमान में कोई और चमकीली चीज ना हो. 12 तारीख को चांद आधा होगा और अपनी रोशनी बिखेर रहा होगा. चांद नजर आ रहा होगा तो इनकी रोशनी अच्छे से नजर नहीं आएगी. ये तब अच्छे से नजर आएगा जब आसमान में चांद ना हो यानी ये अगर आमवस्या के दिन होगा तो ज्यादा बढ़िया से नजर आएगा. अगस्त में हमेशा यहां पर बादल होते हैं. मानसून का सीजन होता है तो अगर आप ऐसे जगह पर है जहां मानसून ना होता हो वो वहां अच्छे से देख सकते हैं. 12 अगस्त को रात नहीं होगी ये पूरी तरह से गलत है. हर साल ये झूठी खबर फैलाई जाती है."
झूठे हैं सभी दावे
  • उल्कापात भारत से काफी दूरी पर होने की वजह से नजर नहीं आएगा. इसलिए भारत में रात में भी दिन जैसे उजाले की बात झूठी है. मेट्योर शॉवर लगभग हर महीने होता है लेकिन कुछ ही बार अच्छे से दिखता है इसलिए 96 साल में पहली बार हो रहा है ये बात बिल्कुल गलत है.
  • मेट्योर शॉवर कई घंटो तक होता है लेकिन सिर्फ 1-2 घंटे जब सबसे चमकीले कण गिरते हैं तभी साफ दिखता है और रोशनी भी पैदा करता है इसलिए 24 घंटे दिन की तरह उजाला होने की बात झूठी है.
  • नासा ने सिर्फ ये बताया है कि 12 अगस्त को मेट्योर शॉवर होगा और इतने बजे होगा. नासा ने कहीं भी इस बात का जिक्र नहीं किया है कि ये चमत्कार दुनिया में पहली बार होगा क्योंकि हर साल अगस्त में मेट्योर शॉवर होता है.
  • भारत में मेट्योर शॉवर दिखेगा ही नहीं इसलिए नहीं देखने वालों का नुकसान होने की बात भी निराधार है.
  • हमारी पड़ताल में 12 अगस्त को रात नहीं होने की बात पूरी तरह से झूठी साबित हुई है.

Tuesday, July 11, 2017

Fake Facebook message warns users not to accept Jayden K Smith hacker

A fake Facebook warning is urging users to avoid accepting a friend request from a user named Jayden K Smith because he is a hacker. Longer versions of this hoax claim accepting the user will result in your account getting hacked.



Variants:
Please tell all the contacts in your Messenger list, not to accept Jayden K. Smith friendship request. He is a hacker and has the system connected to your Facebook account. If one of your contacts accepts it, you will also be hacked, so make sure that all your friends know it. Thanks. Forwarded as received
Don’t accept Jayden K. Smith , she is a hacker and will get into all your friends accounts on your friends list and hack them also so if you get a friend request from her name delete!!!
To all!
Do not accept friends request from Jayden K. Smith! He is a hacker and if you accept, you and all your friends will be hacked!!!!!
This appears to be the latest in a string of fake hacker warnings, none of which have any validity. Such warnings are popular on social media – those that warn of a nefarious hacker who will compromise your security should you accept them into your digital life.
And as we have stated a number of times, such warnings make little sense. You cannot be “hacked” just for accepting a friend requests, and if such warnings were true, why wouldn’t Facebook remove such offending accounts before such warnings had a chance to go viral?
It should also be noted that there are genuine accounts with the name Jayden K Smith but we’ve also seen a surge of fake accounts using this name claiming to be “hackers” pop up as a result of this viral rumour. These accounts belong to pranksters looking to exploit this rumour, not “hackers” or cyber-crooks.
These types of warnings have been around long before Facebook, affecting users of now defunct services such as MSN Messenger, where users would pass on warnings of phantom Messenger hackers trying to add themselves into your contact list. Such warnings were equally as spurious as their more recent Facebook counterparts.
Only last week of the date of this article another fake hacker warning was being spread warning of a hacker called Anwar Jitou, and much of these current warnings are penned exactly the same only with the name of the alleged perpetrator changed. It is likely that many of these warnings start as jokes but take a life of their own when users take them too seriously.
With that said, adding strangers on Facebook isn’t a good idea, and can potentially lead to compromising your privacy and your security, albeit not in the manner described in this warning. Accepting strangers gives them access to more of your personal information which can lead to issues such as identity theft. Some reasons to avoid accepting strangers - read here.

Saturday, July 8, 2017

Guest iin London - मज़ाक-मज़ाक में आया अतिथि इमोशनल करके चला गया...

Verdict - निर्णय : परेश रावल और संजय मिश्रा की कमाल जुगलबंदी आपका दिल जीत लेगी !

हमारे घरों में हमें बचपन से यही सिखाया जाता है कि मेहमान भगवान का रूप होता है। लेकिन क्या हो जब वही भगवान स्वरूप मेहमान आपके जी का जंजाल बन जाये और आपके घर से जाने का नाम ही ना ले? कुछ ऐसी ही है फ़िल्म गेस्ट इन लंदन की कहानी। हमारी ज़िन्दगी में बड़े बुज़ुर्ग ज़रूरी होते हैं और हमें बहुत कुछ सिखाते भी हैं, लेकिन अगर वही बड़े बुज़ुर्ग मेहमान बनकर आये और घर से जाने का नाम ना ले तो बुरे लगने लगते हैं।

परेश रावल, तन्वी आज़मी, कार्तिक आर्यन, कृति खरबंदा और संजय मिश्रा स्टारर फ़िल्म गेस्ट इन लंदन की कहानी भी कुछ अनचाहे अतिथियों के बारे में है। फ़िल्म की कहानी साधारण सी है। एक लड़का आर्यन लंदन की सिटीजनशिप पाने के लिए कृति से शादी करने जा रहा है। ऐसे में उसके घर आ धमकते हैं उसके चाचा के पड़ोसी और उनकी पत्नी गुड्डी।

ये फिल्म 2010 में आई अजय देवगन और कोंकणा सेन शर्मा स्टारर फिल्म अतिथि तुम कब जाओगे का सीक्वल है। फिल्म का पहला भाग काफी हद तक पुरानी फिल्म जैसा है। इसका दूसरा भाग काफी अच्छा और इमोशनल, दूसरे भाग में कहानी रफ़्तार पकड़ती है और इस फिल्म को अर्थ मिलता है।

परेश रावल ने अपने अंदाज़ को बरकरार रखते हुए एक परेशान करने वाली गेस्ट का रोल बखूबी निभाया है। फिल्म में उनकी और संजय मिश्रा की जुगलबंदी कमाल है। संजय मिश्रा ऐसे कलाकार है, जिनकी तारीफ करते आप नहीं रुक सकते। कार्तिक कृति और तन्वी ने अपने किरदारों को अच्छे से निभाया है।

फिल्म का निर्देशन और म्यूजिक अच्छा है। कुल-मिलकर ये एक एंटरटेनिंग फिल्म है और इसे एक बार देखा जा सकता है।

Tuesday, May 23, 2017

Urgent blood needed for a baby - Hoax message

We have been receiving a few hoax messages regularly (atleast once in a month). Messages like We have found Gold in a palace, we’ll give it to you at half rate", "You have won lottery", "I have something to share with you, please contact through email", "Urgent blood needed for a baby" etc.
One such message is
"Plz plz forward this msg urgengtlyy.. Atleast to 10 frndz a baby need AB NEGATIVE BLOOD  immediately..
Contact
7036325803
9666914994
9542025814
9972669722
Dont delete...  Ur small sms will save a child"
We forward such messages to our friends immediately without second thought because its for a noble cause. Since I’m associated with a few good hearted groups who regularly donate blood with the help of the voluntary blood donors, before forwarding such messages we always have the habit of calling the phone number and check if there is a real need for blood. Because some times those messages are rumours or may be the need for the blood would have already been met. Calling these numbers and checking would save the unnecessary time that would have been wasted in forwarding the messages and the travel time of the donors.
When I got the above message for the first time a couple of months back, I tried calling the phone number and it was switched off. I have been getting the same message more than thrice in the last two months and whenever I tried that number, its switched off. The operator says “The vodafone number is switched off”. So it’s very clear that its a hoax message and it wastes the time of each and everyone who reads the message and forward the message. Had I forwarded the same message to hundreds and thousands of my contacts, I would have wasted their time as well.
So with this post I would like to request you all to call the contact numbers when you get such messages and confirm the real need before forwarding the message to your bulk contacts or groups. I also understand that at times we are real busy and we don’t have time to cross check it and hence we just like that forward the message to our friends, so that atleast someone helps the needy. This is with good intention, I agree. However when we have little time, then we can try to cross check. Small amount of time spent by us will save large amount of time of others, when we find the cumulative saving of time.